Top 5 MORAL STORIES IN HINDI – नैतिक कहानिया हिंदी में

MORAL STORIES IN HINDI 2022: जब भी कहानियों का जिक्र होता है तो बच्चों का भी जिक्र होता है, क्योंकि कहानियां मुख्य रूप से बच्चों को पसंद आती हैं. ये कहानियां वो माध्यम हैं जिससे उन्हें नई प्रेरणा जरूर मिलती है और साथ ही जिंदगी को सही तरीके से जीने की सीख भी मिलती है। MORAL STORIES IN HINDI में आप बहुत सारी भारतीय कहानियाँ पढ़ने को मिलेंगी और इन कहानी MORAL STORIES IN HINDI से आप अपने जीवन में एक अच्छी सीखा पाएंगे।  

ताकि भविष्य में आप एक बेहतर इंसान बनाने में मदद मिले। वास्तव में ये छोटी और बड़ी MORAL STORIES IN HINDI सभी बच्चों के लिए बहुत ही प्रेरणादायक हैं। साथ ही, अंत में उनसे हमेशा कुछ न कुछ सीखने को मिलता है। इसलिए हिंदी कहानियां हमेशा छोटी हो या बड़ी सभी को पसंद आती हैं।

बच्चों की कहानियों में भी आपको काफी विविधता मिलेगी। मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि इन कहानियों के लेखक बच्चों के लिए अनेक प्रकार की कहानियाँ लिखते हैं। जैसे राजा रानी की कहानी, जानवरों की कहानी, भूत की कहानी, पक्षियों की कहानी और भी बहुत कुछ।लेकिन सभी कहानियों में कोई न कोई सीख जरूर दी गई है।

MORAL STORIES IN HINDI में आज आप 5 मजेदार कहानियाँ पड़ने बाले है और कहानी के अंत में आपको उस कहानी से कुछ सिखने को मिलेगा आप हमारे पोस्ट पर बच्चो के लिए छोटी – छोटी short moral stories for kids in hindi में भी पढ़ सकते है जो की बच्चो को बहुत पसंद आएँगी MORAL STORIES IN HINDI में कहानियाँ भले ही छोटी है लेकिन इन कहानियों में सिख बहुत बड़ी – बड़ी छुपी हुई है। तो चलिए पड़ना शुरू करते है MORAL STORIES IN HINDI 

1. हाथी और बकरी की कहानी – Elephant And Goat Story In Hindi

एक जंगल में एक हाथी और एक बकरी रहते थे। दोनों बहुत गहरे दोस्त थे। दोनों साथ में खाना ढूंढते और साथ में खाते थे। एक दिन दोनों भोजन की तलाश में अपने जंगल से बहुत दूर निकल गए। वहां उन्होंने एक तालाब देखा। उसी तालाब के किनारे एक बेर का पेड़ था। बेर के पेड़ को देखकर हाथी और बकरी बहुत खुश हुए।

वे दोनों बेर के पेड़ के पास गए, तभी हाथी ने अपनी सूंड से बेर के पेड़ को हिलाया और ढेर सारे पके जामुन जमीन पर गिरने लगे। बकरी जल्दी से गिरे हुए जामुनों को समेटने लगी। संयोग से उसी बेर के पेड़ पर एक चिड़िया का घोंसला भी था, जिसमें एक चिड़िया का बच्चा सो रहा था और चिड़िया अनाज की तलाश में कहीं चली गई थी। बेर के पेड़ के जोर से हिलने से चिड़िया का बच्चा घोसले से निकलकर तालाब में गिर गया और डूबने लगा।

बकरी के बच्चे को डूबता देख बकरी ने उसे बचाने के लिए तालाब में छलांग लगा दी, लेकिन बकरी को तैरना नहीं आता था। इस वजह से वह भी तालाब में डूबने लगी। बकरी को डूबता देख हाथी भी तालाब में कूद गया और चिड़िया के बच्चे और बकरी दोनों को डूबने से बचा लिया। इसी बीच चिड़िया भी वहां आ गई थी और अपने बच्चे को सकुशल देखकर वह बहुत खुश हुई।

उसने हाथी और बकरी को इस तालाब और बेर के पेड़ के पास रहने को कहा। तब से उस बेर के पेड़ के नीचे गौरैया के साथ-साथ हाथी और बकरियां भी रहने लगीं। कुछ ही दिनों में चिड़िया का बच्चा बड़ा हो गया। चिड़िया अपने बच्चे के साथ जंगल में घूमती थी और हाथी और बकरी को जंगल के फलों के पेड़ों के बारे में बताती थी। इस प्रकार हाथी, बकरी और पक्षी सुख से रहते थे और खाते-पीते थे।

कहानी से सीखें

हमें किसी का अहित नहीं करना चाहिए। अगर कोई हमारी गलती से परेशान है तो उस गलती को सुधारना चाहिए और मनमुटाव दूर कर एक दूसरे की मदद करनी चाहिए।

Also Read: Princess Story in Hindi | राजकुमारी की कहानी

2. गिलहरी की कहानी | Gilhari Ki Kahani

एक वन में साध नाम के एक ऋषि रहते थे। तपस्या करके उन्होंने बहुत ज्ञान प्राप्त किया। एक दिन ध्यान करने के बाद जब उनकी आंख खुली तो उनके हाथ में एक गिलहरी आसमान से गिरी थी। गरुड़ के पंजों से छूटते ही खून से लथपथ गिलहरी ऋषि के हाथ लग गई। गिलहरी मौत के डर से काँप रही थी। मुनि को उस पर दया आ गई। उसने सोचा क्यों न अपने ज्ञान से इसे अपनी बेटी बना लूं। मेरी पत्नी काफी समय से बच्चा चाहती है।

लेकिन, उसके भाग्य में कोई संतान नहीं है। अब मैं यह कहकर उसे दुखी करने के बजाय इस गिलहरी को अपनी बेटी बनाकर कुछ वर्षों के लिए उसे सौंप दूंगा। ऐसा विचार कर मुनि ने एक मन्त्र पढ़ा और गिलहरी को एक छोटी कन्या बना दिया। वह उस गिलहरी को बच्चा समझकर गोद में ले गया और अपनी पत्नी के पास ले आया। उसने कहा, “अब इसे अपनी बेटी के रूप में ले लो। सोचो, भगवान ने तुम्हें सुना है। मुनि की पत्नी उस छोटी बच्ची को देखकर बहुत प्रसन्न हुई। अब गिलहरी से सन्तान बनी वह कन्या ऋषि के घर में बड़े लाड़-प्यार से पलने लगी।

मुनि की पत्नी ने कुछ दिनों के बाद बच्ची का नाम वेदांत रखा। मुनि और मुनि की पत्नी दोनों ने बड़े प्रेम से वेदांत का पालन-पोषण किया। अपनी पत्नी के मोह को दूर करने के लिए ऋषि को एक बेटी होने पर बहुत खुशी हुई। उसके पालन-पोषण के कुछ समय बाद, ऋषि भूल गए कि वह एक गिलहरी थी। मुनि ने वेदान्त की शिक्षा दी। वेदांत कुछ ही समय में 16 साल का हो गया। अब मुनि की पत्नी को अपनी सुन्दर कन्या के विवाह की चिंता सताने लगी।

उसने मुनि से यह बात कही। अपनी पुत्री को देखकर ऋषि को भी लगा कि अब इसका विवाह कर देना चाहिए। मुनि ने अपनी पत्नी से कहा कि चिंता मत करो, मैं उसके लिए योग्य वर ढूंढ लूंगा। मुनि को लगा कि मेरी पुत्री बड़ी सुन्दर है और उसकी शिक्षा भी अच्छी हुई है। इसलिए, उन्होंने अपनी सिद्धि के साथ सूर्य देव का आह्वान किया। सूर्य देव ने मुनि को प्रणाम किया और उन्हें बुलाने का कारण पूछा। तब ऋषि ने कहा, “मेरी पुत्री विवाह के योग्य हो गई है।

मैं चाहता हूं कि तुम उसके पति बनो। सूर्य देव ने कहा, “तुम एक बार अपनी पुत्री से पूछ लो। अगर वह मंजूर करते हैं तो मेरी तरफ से भी हां। तब वेदांत ने कहा, “पिताजी, यह बहुत गर्म है। मैं न तो उनके पास जा पाऊंगा और न ही उन्हें देख पाऊंगा। कोई बात नहीं, हम एक और वर देखेंगे,” ऋषि ने वेदांत से कहा। तब सूर्य देव ने कहा, “हे मुनिवर, मेघ मेरे लिए अच्छे हैं, आप उनसे बात करें। वे मेरे प्रकाश को भी ढक लेते हैं।

मुनि को अब बादलों की याद आई। बादलों की गर्जना ऋषि के पास पहुँची और उनका अभिवादन किया। इस बार ऋषि ने सीधे वेदांत से पूछा, “क्या आपको यह दूल्हा पसंद है?” वेदांत ने उत्तर दिया, “पिताजी, मैं रंग में गोरा हूं और वह रंग में काला है। हमारी जोड़ी ठीक नहीं चलेगी। तब बादल ने ऋषि से कहा, “आप पवन देव को बुलाइए। वे मुझसे श्रेष्ठ हैं। वह मुझे उड़ाने और मुझे यहां से वहां ले जाने की ताकत रखता है।

अब मुनि को पवन देव की याद आई। पवन देव के आते ही मुनि ने अपनी पुत्री से पूछा कि क्या तुम्हें यह वर पसंद है। वेदांत ने कहा, “पिताजी, वे एक स्थान पर बिल्कुल नहीं रहते। मैं उनके साथ कैसे रहूँगा?” पवन देव ने उत्तर दिया, “मुनिवर, आप पहाड़ को बुला सकते हैं। वे मेरा रास्ता रोकते हैं। वे मुझसे बेहतर हैं। ऋषि ने तुरंत पहाड़ को बुलाया। पहाड़ को देखकर वेदांत ने कहा, “ये पत्थर हैं। दिल भी पत्थर का होगा।

पापा उसकी शादी कैसे कर पाएंगे? ऋषि ने हाथ जोड़कर पर्वत देवता से पूछा, “आपसे श्रेष्ठ कौन है?” पर्वत के राजा ने उत्तर दिया, “हे ऋषि, चूहे ने मुझे छेद दिया। चूहा पार्वतदेव के कान के नीचे कूद गया। जैसे ही वेदांत ने चूहे को देखा, वह खुशी से झूम उठा। उसने कहा, “पिताजी, उसे मेरा दूल्हा बनने दो।” दो। वांछित। मुझे यह पसंद है, इसकी पूंछ, कान, सब कुछ कितना प्यारा है।” ऋषि ने सोचा, “अरे! मैंने गिलहरी को मन्त्रों से मनुष्य बना दिया, पर उसका हृदय तो गिलहरी का है। ऋषि ने तुरंत वेदांत को एक गिलहरी में बदल दिया और उसका विवाह एक चूहे से कर दिया। सगाई हो गई।”

कहानी से सीखें

इंसान बाहर से कितना भी बदल जाए लेकिन उसका दिल वही रहता है।

3. ऊँट और गीदड़ की कहानी | Camel And Jackal Story In Hindi

बहुत पुरानी बात है। एक जंगल में दो परम मित्र रहते थे। एक सियार था और दूसरा ऊँट। सियार चालाक था और ऊँट सीधा। ये दोनों दोस्त घंटों नदी के किनारे बैठकर अपना सुख-दुख बांटते थे। दिन बीतते गए और उनकी दोस्ती गहरी होती गई। एक दिन किसी ने सियार से कहा कि पास के खेत में पके हुए तरबूज़ हैं। यह सुनकर सियार का दिल बैठ गया, लेकिन मैदान नदी के उस पार था। अब उसके लिए नदी पार करके खेत तक पहुंचना कठिन हो गया था। सो वह नदी पार करने का उपाय सोचने लगा। सोचते सोचते वह ऊँट के पास चला गया।

ऊँट ने दिन में गीदड़ को देखा और पूछा, “मित्र, तुम यहाँ कैसे हो? हम शाम को नदी के किनारे मिलने वाले थे। तब सियार ने चतुराई से कहा, “देखो मित्र, पास के खेत में तरबूज पक गए हैं। मैंने सुना है तरबूज बहुत मीठा होता है। इन्हें खाकर आप खुश हो जाएंगे। इसलिए मैं आपको बताने आया हूं। ऊंट को तरबूज बहुत पसंद आया। उसने कहा, “वाह! मैं अभी उस गांव जा रहा हूं।

बहुत दिनों से तरबूज नहीं खाया।” ऊंट तेजी से नदी पार करके खेत में जाने की तैयारी करने लगा। तब सियार ने कहा, “मित्र, मुझे भी तरबूज बहुत पसंद हैं, लेकिन मुझे तैरना नहीं आता।” तरबूज खाओगे तो मुझे लगेगा कि मैंने भी खाया है। तब ऊँट ने कहा, “चिंता मत करो, मैं तुम्हें अपनी पीठ पर नदी के उस पार ले जाऊंगा। फिर हम सब मिलकर तरबूज खाएंगे।” ऊँट ने जैसा कहा था वैसा ही किया। तब ऊँट ने कहा, “शोर मत करो, लेकिन उसने नहीं सुना।

गीदड़ की आवाज़ सुनकर किसान खेत के पास आ गए और गीदड़ चतुर था, इसलिए जल्दी से पेड़ों के पीछे छिप गया। ऊँट का एक बड़ा शरीर था , इसलिए वह छिप नहीं सका। गुस्साए किसानों ने उसे खूब पीटा। ऊंट किसी तरह जान बचाकर खेत से बाहर निकला। फिर सियार पेड़ के पीछे छिपकर बाहर आ गया। सियार को देखकर ऊंट ने गुस्से में पूछा, “क्यों? तुम ऐसे चिल्ला रहे हो?” सियार ने ऊंट से कहा कि मुझे खाने के बाद चिल्लाने की आदत है, चिल्लाने के बाद ही  मेरा खाना पचता है।

यह जवाब सुनकर ऊंट को बहुत गुस्सा आ गया। फिर भी वह चुपचाप नदी की ओर बढ़ने लगा। गीदड़ उसकी पीठ पर बैठ गया। दूसरी ओर, गीदड़ ऊँट की मोन  पर आनन्दित हो रहा था। उधर, नदी के बीच में पहुँचकर ऊँट नदी में डुबकी लगाने लगा। गीदड़ डर गया और बोला , “तुम क्या कर रहे हो?” पचाने के लिए नदी में डुबकी लगाओ। सियार समझ गया कि ऊंट अपने किए का बदला ले रहा है। बड़ी मुश्किल से सियार ने पानी से अपनी जान बचाई और नदी के किनारे पहुंचा। उस दिन के बाद से सियार ने ऊंट को कभी परेशान नहीं किया। नहीं करने की हिम्मत।

कहानी से सीखें

ऊँट और गीदड़ की कहानी हमें चालाकी नहीं करना सिखाती है। आपकी हरकतें खुद पर भारी हो जाती हैं। जैसा वह करता है उसे भुगतान करना पड़ता है।

4. लालची लकड़हारे की कहानी | Lalchi Lakadhara Ki Kahani

सोहनपुर गांव में रामलाल नाम का लकड़हारा रहता था। वह आजीविका के लिए गाँव के पास के जंगल से लकड़ी इकट्ठा करता था और उसे बेचकर कुछ पैसे कमाता था। इसी से उनका जीवन चल रहा था। कुछ दिनों बाद रामलाल की शादी हो गई। उसकी पत्नी बहुत गर्वित थी। इसलिए इतनी लकड़ी बेचकर घर चलाना मुश्किल हो रहा था।

ऊपर से रामलाल की पत्नी बार-बार रामलाल से पैसे मांगती, कभी नए कपड़े लेने के लिए, तो कभी कुछ और चीजों के लिए। पैसे नहीं मिलने पर वह परेशान हो जाती थी। रामलाल अपनी पत्नी से बहुत प्रेम करता था, इसलिए वह उसका क्रोध सहन नहीं कर पाता था। रामलाल ने निश्चय किया कि वह और लकड़ियां इकट्ठी करके बेचेगा, ताकि उसकी पत्नी को रोज पैसों की कमी न हो। अपनी पत्नी की इच्छा पूरी करने के लिए आज रामलाल घने जंगल में गया और ढेर सारी लकड़ी इकट्ठी करके बाजार में बेचने लगा।

जब और लकड़ी के लिए उसे और पैसे मिले तो रामलाल ने खुश होकर सारे पैसे अपनी पत्नी को दे दिए। अब रामलाल रोज ऐसा ही करने लगा। उसका लालच इतना बढ़ गया कि वह धीरे-धीरे पेड़ों को काटने लगा। पेड़ों को काटने से अधिक लकड़ी पैदा होती है और लागत भी अधिक आती है। लकड़हारा हर हफ्ते एक पेड़ काटता और लकड़ी बेचने से मिलने वाले पैसों से अपनी पत्नी के शौक पूरे करता।

अब पैसे ज्यादा आ रहे थे तो घर भी ठीक चल रहा था। धीरे-धीरे रामलाल जुआ खेलने लगा। जुए की लत ऐसी थी कि इसमें रामलाल की बड़ी रकम डूब गई। अब इस रकम को चुकाने के लिए रामलाल ने एक-दो मोटे पेड़ों को काटने का फैसला किया। जैसे ही रामलाल ने जंगल में एक बड़े पेड़ पर अपनी कुल्हाड़ी घुमाने की कोशिश की, उस पर पेड़ की शाखा ने हमला कर दिया। रामलाल चौंक गया।

तभी पेड़ की एक शाखा उसके चारों ओर लिपट गई। रामलाल समझ नहीं पाया कि क्या हो रहा है। तभी पेड़ से आवाज आई। “मूर्ख, तुम अपने लालच के कारण मुझे काट रहे हो। आप सारा पैसा जुए में उड़ा देते हैं और फिर पैसे वापस पाने के लिए पेड़ काटने आते हैं। “तुम्हें पता है कि पेड़ कितने कीमती होते हैं। हमारे अंदर भी जीवन बसता है और हम तुम मनुष्यों को जीने के लिए हवा, धूप में छांव और भूख मिटाने के लिए फल देते हैं। लेकिन, आप अपने स्वार्थ के लिए हमें काट रहे हैं।

पेड़ ने कहा, “आज तुम रुक जाओ, मैं अब तुम पर यह कुल्हाड़ी चलाऊंगा।” पेड़ की टहनी रामलाल को कुल्हाड़ी से मारने ही वाली थी कि वह गिड़गिड़ाने लगा। उसने माफी मांगते हुए कहा, “मैंने गलती की है, लेकिन मुझे इसे सुधारने का एक मौका दें। अगर आप मुझे मार देंगे, तो मेरी पत्नी का क्या होगा? वह अकेली रह जाएगी। आज से मैं कसम खाता हूं कि मैं करूंगा।” ” ” “पेड़।” यह सब सुनकर पेड़ को रामलाल पर तरस आया।

कहानी से सीखें

लालच में आकर पर्यावरण से खिलवाड़ नहीं करना चाहिए। ऑक्सीजन हमें पेड़ों से ही मिलती है। इन्हें काटकर हम खुद ही अपने जीवन में संकट ला रहे हैं।

5. एकता में बल की कहानी | Ekta Mein Bal Ki Kahani

एक गाँव में एक किसान रहता था। उनके चार बेटे थे। किसान बहुत मेहनती था। यही कारण था कि उसके सभी बेटे भी अपना काम पूरी मेहनत और ईमानदारी से करते थे, लेकिन समस्या यह थी कि किसान के सभी बेटों की आपस में बिल्कुल भी नहीं बनती थी। छोटी-छोटी बातों पर वे आपस में लड़ पड़ते थे।

किसान अपने पुत्रों के इस झगड़े से बहुत चिंतित था। किसान ने कई बार अपने बेटों को इसके लिए मनाने की कोशिश की, लेकिन उसकी बातों का चारों भाइयों पर कोई असर नहीं हुआ। धीरे-धीरे किसान बूढ़ा हो गया, लेकिन बेटों के बीच आपसी झगड़ों का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा था। ऐसे में एक दिन किसान ने एक तरकीब निकाली और बेटों के बीच झगड़ने की इस आदत को दूर करने का मन बना लिया।

उसने अपने सब पुत्रों को बुलाकर अपने पास बुलाया। किसान की आवाज सुनकर सभी पुत्र अपने पिता के पास पहुंचे। उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि उसके पिता ने उन सबको एक साथ क्यों बुलाया है। सबने पापा को बुलाने का कारण पूछा। किसान ने कहा – आज मैं आप सभी को एक टास्क देने जा रहा हूँ। मैं देखना चाहता हूं कि आप में से कौन इस काम को अच्छी तरह से कर सकता है।

सभी पुत्रों ने एक स्वर में कहा- पिता जी, जो काम देना हो दे दो। हम इसे पूरी मेहनत और ईमानदारी से करेंगे। बच्चों की यह बात सुनकर किसान ने अपने बड़े बेटे से कहा, ‘जाओ और बाहर से कुछ लकड़ी ले आओ।’ किसान ने अपने दूसरे बेटे को एक रस्सी लाने को कहा। पिता के बोलते ही बड़ा बेटा लकड़ी लेने चला गया और दूसरा बेटा बाहर रस्सी लेने दौड़ा। कुछ देर बाद दोनों बेटे वापस आए और लकड़ी और रस्सी अपने पिता को दे दी।

अब किसान ने अपने बेटों से कहा कि इन सभी लकड़ियों को एक रस्सी से बांध कर इनकी एक गठरी बना लो। पिता की आज्ञा का पालन करते हुए बड़े बेटे ने सभी लकड़ियों को एक साथ बांध कर एक गठरी बना ली। जब गठरी तैयार हो गई तो बड़े बेटे ने किसान से पूछा- पापा अब हमें क्या करना है? पिता मुस्कुराए और बोले – ‘बच्चों, अब तुम्हें अपनी ताकत से लकड़ी के इस गट्ठर को दो भागों में तोड़ना है।’ पिता की बात सुनकर बड़ा बेटा बोला, ‘यह मेरे बाएं हाथ का काम है, मैं इसे मिनटों में कर दूंगा। ‘ दूसरे बेटे ने कहा, ‘इसमें क्या है, यह काम तो आसानी से हो जाएगा।

तीसरे बेटे ने कहा, ‘मेरे अलावा कोई भी ऐसा नहीं कर पाएगा।’ नहीं, मैं तुम सब में सबसे बलवान हूँ, यह काम मेरे सिवा कोई और नहीं कर सकता।’ बस फिर क्या था, सभी अपनी बात को साबित करने में लग गए और एक बार फिर चारों भाइयों में लड़ाई शुरू हो गई. किसान ने कहा – ‘बच्चे, मैंने तुम सबको यहां झगड़ा करने के लिए नहीं बुलाया है, लेकिन मैं यह देखना चाहता हूं कि तुममें से कौन इस काम को अच्छे से कर पाता है। इसलिए लड़ना बंद करो और इस लकड़ी के गट्ठर को तोड़कर दिखाओ।

बारी-बारी से सभी को इस काम के लिए मौका दिया जाएगा। यह कहकर किसान ने पहले लकड़ियों का गट्ठर अपने बड़े बेटे को थमा दिया। बड़े बेटे ने गठरी तोड़ने का बहुत प्रयास किया, पर तोड़ न सका। असफल होने पर बड़े बेटे ने लकड़ी का गट्ठर दूसरे बेटे को थमाते हुए कहा कि भाई मैंने कोशिश की है, मैं यह काम नहीं कर पाऊंगा, तुम खुद करके देख लो। इस बार लकड़ी का गट्ठर दूसरे बेटे के हाथ में था। उसने उस गट्ठर को तोड़ने का भरसक प्रयत्न भी किया, पर लकड़ी का गट्ठर नहीं टूटा।

जब वह असफल हो गया तो उसने तीसरे बेटे को लकड़ी का एक गट्ठर देते हुए कहा, यह काम बहुत कठिन है, तुम भी करके देखो। इस बार तीसरे बेटे ने भी पूरी कोशिश की, लेकिन लकड़ी का गट्ठर बहुत मोटा था। इस कारण अधिक बल लगाने के बाद भी वह उसे नहीं तोड़ पा रहा था। काफी प्रयास के बाद जब उससे बात नहीं हो पाई तो उसने लकड़ी का गट्ठर सबसे छोटे बेटे को सौंप दिया।

अब छोटे बेटे की हाथ आजमाने की बारी थी। उसने भी काफी कोशिश की, लेकिन सभी भाइयों की तरह वह भी लकड़ी के उस गट्ठर को तोड़ने में सफल नहीं हो सका। अंत में हारने के बाद उसने लकड़ी के गट्ठर को जमीन पर पटक दिया और कहा- ‘पिताजी, यह काम संभव नहीं है।’ किसान मुस्कुराया और बोला, ‘अब बच्चों, इस गठरी को खोलो और इसकी लकड़ियों को अलग करो और फिर इसे तोड़ने की कोशिश करो।

चारों भाइयों ने ऐसा ही किया। इस बार सभी ने एक-एक छड़ी अपने हाथ में ली और आसानी से उसे तोड़ दिया। किसान ने कहा – ‘बच्चे, तुम चारों भी इन्हीं लकड़ियों की तरह हो। जब तक तुम इन लकड़ियों की तरह आपस में जुड़े रहोगे, तब तक कोई तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा, लेकिन अगर तुम लड़ते रहोगे, तो तुम इन अकेली लकड़ियों की तरह आसानी से टूट जाओगे।’ बच्चे समझ गए कि पिता उन्हें क्या समझाना चाहते हैं। सभी बेटों ने अपनी गलतियों के लिए माफी मांगी और वादा किया कि वे जीवन में फिर कभी एक-दूसरे से नहीं लड़ेंगे।

एकता की कहानी

एकता में शक्ति कहानी हमें बताती है कि एकता ही सबसे बड़ी ताकत है। अगर हम एकजुट रहें तो कितनी भी मुश्किलें क्यों न आएं, उनका मिलकर आसानी से सामना किया जा सकता है। वहीं अगर हम आपस में लड़-झगड़ कर अलग-अलग रहते हैं तो छोटी से छोटी समस्या भी जीवन पर बहुत बड़ा बोझ बन सकती है।

Sharing Is Caring:

अनिकेत सिन्हा एक Internet Entrepreneur हैं। वो Ajanabha और Famenest Social Media Site के फाउंडर हैं।


Leave a Comment