Sai Baba Ke Chamatkari Mantra जाप करने से होते हैं साईं बाबा प्रसन्न

स्वागत है आपका अजनाभ में ! इस लेख में आप पढ़ेंगे Sai Baba Ke Chamatkari Mantra के बारे में जिसका जाप प्रत्येक मनुष्य को अवश्य करना चाहिए। ऐसा करने से सदैव साई कृपा की प्राप्ति होती है और जीवन में कभी भी कोई कष्ट या कलेश नहीं रहता। साई बाबा के प्रसिद्ध देवस्थान शिरडी है लेकिन Sai Baba Temple Mylapore भी साई बाबा का एक प्रसिद्ध मंदिर है जो चेन्नई में स्थित है।

मैं शिरडी के महान संत साईं बाबा को नमन करके उनके जीवन का संक्षेप में वर्णन करने जा रहा हूँ, साथ ही साथ मैं आप सभी का जो ये साईं बाबा का चरित्र चित्रण पढ़ रहे हैं उनका अभिनन्दन करता हूँ और आपको ये भरोसा देता हूँ की साईं बाबा हर समय हमारे साथ रहेंगे। साईं बाबा ने स्वयं अपने Sai Charitra में ये कहा है की मेरे मरने के बाद भी मेरे नाम पर चमत्कार होंगे और जब भी मेरा कोई भक्ति श्रद्धा से मुझे पुकारेगा मैं उनकी सहायता के लिए ज़रूर आऊंगा।

शिरडी के साई बाबा भारतवर्ष के महान संतों में से एक हैं जिनका नाम देवताओं की तरह लिया जाता है और उन्हें देवतातुल्य मानकर उनकी पूजा अर्चना भी भारत के हज़ारों मंदिरों में की जाती है। आज हम जानेंगे साईं बाबा के कुछ कष्ट निवारण मन्त्रों ( Sai Baba Kasht Nivaran Mantra ) के बारे में जिनका जाप करने से साई बाबा की कृपा प्राप्त होती है और मंगल ही मंगल होता है।

दोस्तों अगर आप शिरडी जायेंगे तो आप पाएंगे की वहाँ एक ख़ास वर्ग है जो आज भी बाबा की मौजूदगी का अहसास करता है। मैंने भी स्वयं साईं बाबा की शक्तियों को महसूस किया है और अपने जीवन में चमत्कार होते देखे हैं। ये लेख ख़ास करके उन भक्तों के लिए है जिनकी साईं बाबा में अगाध श्रद्धा है।

जैसा की हम जानते हैं की साईं बाबा की जीवनी चमत्कारों से भरी पड़ी है। अपने भक्तों के लिए बाबा ने कई प्रकार के कष्ट उठायें और स्वयं को मानव सेवा के लिए समर्पित कर दिया। बाबा के रहते शिरडी में कभी कोई बीमारी नहीं फैली और असाध्य रोग भी बाबा के हाथों ठीक हो गए। धन्य हो साईं बाबा जिनके आने से शिरडी नगरी पुण्य नगरी में तब्दील हो गयी जहाँ आज भी भक्तों की भीड़ लगी रहती है।

साईं बाबा ने अपने जीवनकाल में कभी धनसंग्रह नहीं किया, जो भी दान मिलता उसे वो प्रतिदिन गरीबों में बाँट दिया करते थे। यहाँ एक बात ध्यान देने वाली है की बाबा ने कभी ख़ुद के लिए कोई धन जमा नहीं किया, जीवनभर फकीर बने रहे किन्तु बाबा के पास जो भी एक बार आ गया उसके जीवन में कभी पैसे का अभाव नहीं रहा और वो समृद्ध होता चला गया।

बाबा अपने हाथों से भंडारा भी करते थे जिसमे गरीबों को खाना खिलाया जाता था। धन्य है शिरडी के नर नारी जिन्हे साईं बाबा के हाथों से भोजन प्राप्त हुआ और जिन्होंने बाबा को करीब से देखा। ऐसे शिरडीवासियों के भाग्य की बराबरी तो कोई राजा महाराजा भी नहीं कर सकते।

वैसे तो साईं बाबा के कई मंत्र हैं जिनमे से कुछ ख़ास मंत्र जो सबसे ज़्यादा जाप किये जाते हैं वो इस प्रकार हैं। आप इसमें से किसी भी मंत्र का जाप कर सकते हैं बस मन में बाबा के लिए अटूट विश्वास होना चाहिए। अगर संभव हो तो साईं बाबा की पूजा करते वक़्त साईं चरित्र का पाठ अवश्य करें।

  • ॐ साईं नमो नम: श्री साईं नमो नम: जय जय साईं नमो नम:, सद्गुरु साईं नमो नम:
  • ॐ श्री साईनाथाय नमः
  • ॐ सांईं देवाय नम:
  • ॐ शिर्डी देवाय नम:
  • ॐ सांईं गुरुदेवाय नम:

आज के समय में साईं बाबा के चाहने वाले पूरी दुनिया में कोने कोने में फैले हुए हैं और उनके भक्तों की तादाद दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। दोस्तों अगले गुरुवार को साईं बाबा की जीवनी ( Shirdi Sai Baba True Story ) पर आधारित कुछ लेख प्रकाशित होंगे जिन्हे हम बुधवार को प्रकाशित करेंगे ताकि गुरुवार को साई पूजा से पहले आप साई बाबा से जुडी कुछ और बातें जान सकें।

रोज़ नए नए धार्मिक लेख पढ़ने के लिए आप अजनाभ को सब्सक्राइब ज़रूर कर लें ताकि नियमित रूप से आपको नए लेख प्राप्त होते रहे। हमसे जुड़ने के लिए और आपका सहयोग और प्यार देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *