CID Ki Full Form Kya Hai सीआईडी का फुल फॉर्म क्या होता है

आप सभी तो जानते ही हैं कि भारत देश में पुलिस की क्या महत्वता होती है। पुलिस पर ही देश की शांति और कानून व्यवस्था को बनाए रखने की जिम्मेदारी होती है। और पुलिस डिपार्टमेंट के अंतर्गत अलग अलग विभाग होते हैं, जिनके अलग अलग कार्य होते हैं। ठीक इन्हीं में से एक विभाग CID होता है।

आज के समय में तो अधिकतर लोगों को CID के बारे में पता ही होगा। परंतु आज के समय में कुछ ऐसे भी लोग होते हैं, जिन्हें CID full form in Hindi के बारे में पता नहीं होता है। यदि आप भी उन्हीं लोगों में से एक हैं, तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें। क्योंकि आज हम आप सभी को अपने इस आर्टिकल के माध्यम से CID की फुल फॉर्म और इससे जुड़ी हुई कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में बताएंगे। तो चलिए बिना समय गवाएं इसके बारे में जानते हैं।

CID की फुल फॉर्म:- CID Ki Full Form Kya Hai

CID की फुल फॉर्म ‘Crime Investigation Department’ होता है जिस का हिंदी में अर्थ ‘अपराध जांच विभाग’ होता है। CID का मुख्यालय पुणे भारत मैं स्थित है। यह भारतीय राज्य पुलिस की एक जांच और खुफिया शाखा होता है। यह एक ऐसा विभाग होता है, जिसके अंतर्गत क्राइम की तहकीकात बड़े ही बारीकी के साथ की जाती है। जब कोई भी केस पुलिस द्वारा सॉल्व नहीं हो पाता है, तो उस केस को सीआईडी को सौंप दिया जाता है।

CID full form in English: Crime Investigation Department

CID full form in Hindi: अपराध जांच विभाग

Also Read: UPI Ka Full Form in Hindi

CID की स्थापना कब और किसने की थी:-

यदि सीआईडी के स्थापना की बात करें तो करीबन सन 1902 के दौरान ब्रिटिश सरकार द्वारा मुख्य रूप से सीआईडी विभाग की स्थापना की गई थी। इस विभाग की स्थापना पुलिस आयोग की सिफारिशों के आधार पर किया गया था। इसकी स्थापना करने का मुख्य उद्देश्य देश से क्राइम की समाप्ति करना है। और सीआईडी के प्रमुख “एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस” होता है।

इस विभाग के अलग अलग ब्रांच भी बांटे गए हैं जैसे कि- अपराध शाखा, एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग एंड मिसिंग पर्सन सेल, आतंकवादी रोधी विंग, बैंक धोखाधड़ी, फिंगरप्रिंट ब्यूरो, मानव अधिकार विभाग, इत्यादि। और इन सभी ब्रांच के अपने ही अलग अलग कार्य होते हैं।

Also Read: FF Ka Full Form Kya hai

CID का मतलब क्या होता है:-

जैसा कि हमने आपको बताया कि सीआईडी का फुल फॉर्म क्राइम इन्वेस्टीगेशन डिपार्टमेंट होता है। तो आपको इसके नाम से हि समझ में आ रहा होगा कि सीआईडी एक ऐसा विभाग होता है, जिसका काम मुख्य रूप से होने वाले किसी भी तरह के क्राइम की छानबीन करना होता है।

सीआईडी का नेतृत्व अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (ADGP) द्वारा किया जाता है। सीआईडी को खुफिया विभाग के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि इनका कोई भी ड्रेस कोड नहीं होता है। यह आम लोगों की तरह ही रहकर किसी भी तरह के केस को बड़ी चालाकी के साथ सॉल्व करते हैं, ताकि उन्हें कोई भी पहचान ना सके और वे बिना किसी रूकावट के अपने काम को पूरा कर सके। सीआईडी के अंतर्गत काम करने वाले ऑफिसर को CID officer या फिर detective के नाम से जाना जाता है।

सीआईडी का काम क्या होता है:-

सीआईडी का मुख्य काम किसी भी गंभीर अपराध की बड़े ही बारीकी से तहकीकात करना होता है, और सही मुजरिम को पकड़कर सजा दिलवाना होता है। सीआईडी द्वारा बलात्कार, हत्या, चोरी, डकैती, इत्यादि जैसे अपराधों की जांच पड़ताल की जाती है।

सीआईडी द्वारा किसी भी तरह के अपराध की बड़ी बारीकी के साथ जांच पड़ताल किया जाता है, और अपराध से जुड़े हुए सभी तरह के सबूत इकट्ठे किए जाते हैं। अंत में मुजरिम को सबूत के साथ अदालत में पेश किया जाता है, और मुजरिम को उसके अपराध के अनुसार सजा दिलवाया जाता है। और आईडी किसी भी तरह के केस को सॉल्व करने के लिए स्थानीय पुलिस की सहायता भी ले सकती है।

Also Read: Google Ka Full Form Kya Hai

CID ऑफिसर कैसे बन सकते हैं:-

एक सीआईडी ऑफिसर बनने का प्रोसेस काफी लंबा होता है। सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए आपको पुलिस के किसी भी विभाग पर कार्यरत होना आवश्यक होता है। तभी जाकरके आपके अच्छे परफॉर्मेंस को देखते हुए प्रमोशन के रूप में सीआईडी के पद पर नियुक्त किया जाता है।

सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए सबसे पहले आपका किसी भी फील्ड से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करना जरूरी होता है। ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करने के बाद आपको पुलिस अधिकारी के पद पर कार्य करना होता है। जिसके लिए आप केंद्र सरकार द्वारा आयोजित किए गए यूपीएससी या फिर किसी अन्य कॉम्पिटेटिव एग्जाम को दिला सकते हैं। जिसे क्लियर करने के बाद आप एक पुलिस अधिकारी के पद पर नियुक्त हो जाएंगे। और उसके बाद आप के बेहतर परफॉर्मेंस और आपके अनुभव को देखते हुए प्रमोशन के रूप में सीआईडी के पद की प्राप्ति हो जाएगी।

CID ऑफिसर बनने के लिए पात्रता:-

CID ऑफिसर के पद पर कार्य करना कोई मामूली बात नहीं होता है। यह पद बहुत ही ज्यादा जोखिम भरा और जिम्मेदारी वाला होता है। इस पद पर कार्य करने के लिए काफी मेहनत करना पड़ता है। सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए कुछ पात्रता भी निर्धारित की गई होती है, जिसका पालन करना आवश्यक होता है। और वह पात्रता निम्नलिखित है-

1. सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए सबसे पहले आवेदक को भारत की नागरिकता प्राप्त होनी चाहिए।

2. सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए सबसे पहले किसी की मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी फिल्ड से ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।

3. सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए यूपीएससी की परीक्षा को क्लियर करना होता।

4. सीआईडी ऑफिसर बनने के लिए आवेदक को फिजिकली और मेंटली स्ट्रांग होना बहुत ही जरूरी होता है।

5. सीआईडी ऑफिसर के अंतर्गत अलग अलग पद पक जैसे कि- इंस्पेक्टर, अधिकारी या कॉन्स्टेबल के रूप में भर्ती होने के लिए अलग अलग योग्यताएं होते हैं।

निष्कर्ष:-

आज हमने आप सभी को अपने इस आर्टिकल के माध्यम से CID Ki full form kya hai और इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण बातों के बारे में बताया है। आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा। आपको हमारे इस आर्टिकल के जरिए CID ki full form kya hai के बारे में काफी अच्छी जानकारी प्राप्त हुई होगी।

Sharing Is Caring:

अनिकेत सिन्हा एक Internet Entrepreneur हैं। वो Ajanabha और Famenest Social Media Site के फाउंडर हैं।

Leave a Comment