Share Market Kya Hai शेयर मार्केट क्या है पूरी जानकारी

Share Market Kya Hai- दोस्तों आपने काफी बार शेयर मार्केट या शेयर बाजार का नाम सुना होगा| आज में आपको शेयर मार्केट क्या है? और शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमा सकते है? इसके बारे में डिटेल में जानकारी देने वाला हु।

शेयर मार्केट के बारे में लोगो की अलग अलग धारणाएं होती है| कोई शेयर मार्केट को निवेश करने का सबसे बढ़िया मार्केट मानते है तो कोई शेयर मार्केट को जुआ मानते है।

वास्तव में शेयर मार्केट क्या है? और आप शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमा सकते है इसकी सम्पूर्ण जानकारी आज में आपको देने वाला हु| share market books in hindi पढके भी आप शेयर मार्केट के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते है।

शेयर मार्केट या शेयर बाजार क्या है? Share Market Kya Hai

दोस्तों जिस मार्केट या बाजार में शेयर्स की लेन देन होती है उसे शेयर मार्केट या शेयर बाजार के नाम से जाना जाता है| शेयर मार्केट में शेयर खरीदने और बेचने की प्रक्रिया को ट्रेडिंग कहते है।

शेयर मार्केट में शेयर की खरीदी और बिकवाली का कार्य स्टॉक एक्सचेंज के जरिये किया जाता है। हमारे देश में मुख्य दो स्टॉक एक्सचेंज है| एक है BSE-बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और दूसरा है NSE-नेशनल स्टॉक एक्सचेंज| ये दोनों स्टॉक एक्सचेंज विश्व के टॉप टेन एक्सचेंज की लिस्ट में आते है।

शेयर मार्केट में उन्ही कंपनियों के शेयर आप खरीद और बेच सकते है जो हमारे स्टॉक एक्सचेंज में रजिस्टर याने की लिस्टेड होती है।

शेयर मार्केट में किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने के लिए आपको डीमेट अकाउंट ओपन करना होता है। जिस प्रकार बैंक अकाउंट में आपके पैसे जमा रहते है उसी प्रकार डीमेट अकाउंट में आपके शेयर जमा रहते है।

शेयर बाजार में लोग सस्ते प्राइस पर शेयर खरीद कर महेंगे प्राइस पर शेयर बेचने की फ़िराक में रहते है ताकि वो मुनाफा कमा सके।

शेयर मार्केट में सेंसेक्स और निफ्टी क्या है?

दोस्तों शेयर मार्केट से सबंधित समाचार या न्यूज़ पेपर में आपने काफी बार सेंसेक्स और निफ्टी का नाम सुना होगा| लेकिन क्या आप जानते है की सेंसेक्स और निफ्टी क्या है? अगर नहीं तो आज में आपको सेंसेक्स और निफ्टी के बारे में डिटेल में जानकारी देता हु।

दोस्तों सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का इंडेक्स है। जब की निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज(NSE)का इंडेक्स है। इंडेक्स का कार्य सबंधित स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड कंपनी के शेयर्स में आ रही तेजी या गिरावट को दर्शाने का है।

सेंसेक्स BSE की सेंसेक्स में लिस्टेड कंपनियों के शेयर में आ रही तेजी या गिरावट को दर्शाता है। जब की निफ्टी (NSE) में निफ्टी में लिस्टेड कंपनियों के शेयर में आ रही तेजी या गिरावट को दर्शाने का कार्य करता है।

जब आप सुनते है की सेंसेक्स में गिरावट आई है उसका मतलब होता है की सेंसेक्स में शामिल कंपनियों के शेयर में गिरावट आई है। उसी प्रकार जब सेंसेक्स बढ़ता है तो उसका मतलब सेंसेक्स में शामिल कंपनियों के शेयर में तेजी आई है।

इसी प्रकार निफ्टी गिरने का मतलब होता है की निफ्टी में शामिल कंपनियों के शेयर में गिरावट आई है। और निफ्टी बढ़ने का मतलब है निफ्टी इंडेक्स में शामिल कंपनियों के शेयर में तेजी आई है।

अब आपको जानकारी मिल चुकी होगी की वास्तव में शेयर मार्केट में सेंसेक्स और निफ्टी क्या होता है।

शेयर मार्केट में शेयर्स क्या होते है?

शेयर मार्केट में शेयर की खरीदी और बिकवाली होती है। लेकिन क्या आपको पता है? शेयर किसे कहते है? अगर नहीं तो अब में आपको शेयर या शेयर्स क्या होते है इसके बारे में डिटेल में जानकारी देता हु।

दोस्तों शेयर का मतलब होता है हिस्सा, भागीदारी या मालिकाना हक्क। जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते है तो उसका मतलब होता है आप उस कंपनी में अपनी भागीदारी या मालिकाना हक्क खरीद रहे है।

शेयर कैसे बनते है उसे डिटेल में समजते है| मान लीजिये की कोई एक कंपनी है जिनकी वैल्यू 10 लाख है। अब कंपनी उस वैल्यू को छोटे छोटे हिस्सों में बाँट देती है। मान लीजिये की कंपनी ने 10 Lacs को 1000 भागों में बाँट दिया तो एक शेयर की कीमत 100 रुपये होगी। इस प्रकार कंपनी के शेयर की प्राइस तय होती है।

आपके पास किसी कंपनी के जितने ज्यादा शेयर्स होगे उतनी ज्यादा हिस्सेदारी आपको कंपनी में मिलेगी।

शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमायें?

दोस्तों शेयर मार्केट से पैसे कमाने के लिए सबसे पहले आपको एक डीमेट अकाउंट ओपन करना होता है। डीमेट अकाउंट ओपन करने के बाद आप शेयर की खरीदी और बिकवाली कर सकते है। जैसा हमने आगे जाना शेयर की खरीदी और बिकवाली को ट्रेडिंग कहते है।

जब आपका डीमेट अकाउंट ओपन हो जाये उसके बाद आप शेयर की खरीदी और बिकवाली करके शेयर मार्केट से पैसे कमा सकते है।

इसके लिए आपको शेयर मार्केट में सस्ते प्राइस पर शेयर खरीद कर ऊँचे प्राइस पर बेच देने होते है। इसे मैं एक example से समझाता हूँ। मान लीजिये की किसी शेयर का प्राइस अभी 100 रुपये चल रहा है और आपने ऐसे 100 शेयर खरीदकर रख लिए।

कुछ दिनों बाद उस शेयर में तेजी आती है और उसकी कीमत 130 रुपये हो जाती है तो आपको एक शेयर पर 30 रुपये का फायदा होगा। आपके पास ऐसे 100 शेयर है तो आपको 3000 रुपये का मुनाफा मिलेगा इस प्रकार आप शेयर मार्केट से पैसे कमा सकते है।

लेकिन ध्यान रखे की आपने जो शेयर ख़रीदा है उसमे 30 रुपये की गिरावट आती है तब ये शेयर आप बेच देते है तो आपको 3000 रुपये का लोस मतलब की नुकशान होगा।

शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग क्या है?

दोस्तों आपने शेयर मार्केट में इंट्राडे ट्रेडिंग के बारे में काफी बार सुना होगा| क्या आपको पता है इंट्राडे ट्रेडिंग क्या होता है और आप इंट्राडे ट्रेडिंग से कैसे पैसा कमा सकते है।

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के कई प्रकार है जैसे की इंट्राडे ट्रेडिंग, फ्यूचर ट्रेडिंग, स्विंग ट्रेडिंग, डिलीवरी आदि ये सभी ट्रेडिंग के प्रकार है जिसमे इंट्राडे ट्रेडिंग काफी लोकप्रिय है।

इंट्राडे ट्रेडिंग का मतलब होता है एक दिन समय अवधि का ट्रेडिंग। इसका मतलब है की ट्रेडिंग करने के लिए जिस में एक दिन की समय अवधि मिलती है ऐसे ट्रेडिंग को इंट्राडे ट्रेडिंग कहते है।

इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको सुबह 9.15 बजे मार्केट ओपन होने के बाद दोपहर 3.30 बजे मार्केट क्लोज होने से पहले ट्रेडिंग पूरी कर लेनी होती है चाहे आपको मुनाफा हो रहा हो या नुकसान।

इसे एक example के साथ समझते है। मान लीजिये के मार्केट ओपन होने के बाद आपने कोई शेयर ख़रीदे है तो मार्केट क्लोज होने से पहले आपको उसे बेच देने होते है।

आपने कोई  शेयर 100 रुपये में ख़रीदा है और मार्केट क्लोज होने से पहले उस शेयर का प्राइस 100 रुपये के ऊपर चल रहा हो या शेयर 100 रुपये के नीचे चल रहा हो आपको मार्केट क्लोज होने से पहले उसे बेच देने पड़ते है। ऐसी ट्रेडिंग को इंट्राडे ट्रेडिंग कहते है।

आपकी जानकारी के लिए बता दूं की इंट्राडे ट्रेडिंग बहुत जोखमी ट्रेडिंग है। शेयर मार्केट का नोलेज और तजुर्बा प्राप्त करने के बाद ही इंट्राडे ट्रेडिंग करनी चाहिये।

शेयर मार्केट में फ्यूचर ट्रेडिंग क्या है?

दोस्तों इंट्राडे ट्रेडिंग की तरह फ्यूचर ट्रेडिंग भी शेयर मार्केट ट्रेडिंग का एक प्रकार है। फ्यूचर ट्रेडिंग इंट्राडे ट्रेडिंग से थोड़ी अलग होती है। इंट्राडे ट्रेडिंग और फ्यूचर ट्रेडिंग में क्या तफावत होता है इसे समझते है।

फ्यूचर ट्रेडिंग में आपको ज्यादा समय मिलता है शेयर खरीदने और बेचने के लिए। फ्यूचर ट्रेडिंग में आपको एक सप्ताह से लेकर ज्यादा से ज्यादा 3 महीने तक का समय मिलता है।

मतलब की आप कोई शेयर खरीदकर ज्यादा से ज्यादा ३ महीने तक अपने पास रख सकते है। इस समय अवधि को कॉन्ट्रैक्ट कहते है।

ये समय अवधि समाप्त होने से पहले आपको अपने शेयर्स बेच देने होते है, चाहे प्रॉफिट हो या नुकसान। इस ट्रेडिंग में आपको ज्यादा समय मिलता है इंट्राडे के मुकाबले लेकिन ज्यादा समय अवधि के कारण आपको प्रॉफिट भी ज्यादा हो सकता है और नुकसान भी बड़ा हो सकता है।

फ्यूचर ट्रेडिंग की खास बात ये है की फ्यूचर ट्रेडिंग आप सिर्फ और सिर्फ NSE-नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर कर सकते है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर आप फ्यूचर ट्रेडिंग नहीं कर सकते। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर आप सिर्फ शेयर की डिलीवरी ले सकते है। अब ट्रेडिंग के महत्वपूर्ण प्रकार डिलेवरी जिसे लम्बी अवधि का इन्वेस्टमेंट कहा जाता है उसके बारे में जानते है।

शेयर मार्केट में लम्बी अवधि का निवेश (इन्वेस्टमेंट)

दोस्तों शेयर मार्केट में मैंने आपको इंट्राडे ट्रेडिंग और फ्यूचर ट्रेडिंग के बारे में जानकारी दी। अब हम आपको शेयर मार्केट में आप लम्बी अवधि का निवेश करके कैसे पैसे कमा सकते है इसके बारे में जानकारी देते हैं।

शेयर मार्केट में लम्बी अवधि का निवेश करके आप अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते है। ट्रेडिंग के ये प्रकार की खास बात ये है की अगर आपको शेयर मार्केट के बारे में आपको ज्यादा नोलेज नहीं है तब भी आप अच्छी कंपनी के शेयर में लम्बी अवधि का निवेश करके पैसे कमा सकते है।

लम्बी अवधि के निवेश का मतलब होता है की किसी कंपनी के शेयर खरीद कर लम्बी अवधि के लिए अपने पास रखना और जब शेयर की प्राइस बढ़ जाए तब मुनाफा वसूल करके बेच देना।

इस प्रकार की ट्रेडिंग में इंट्राडे ट्रेडिंग और फ्यूचर ट्रेडिंग के मुकाबले बहुत कम जोखिम रहता है। लम्बी अवधि के निवेश में आपको हररोज शेयर मार्केट पर ध्यान नहीं रखना पड़ता है| जिसके पास समय कम है उसके लिए शेयर मार्केट में लम्बी अवधि का निवेश फायदेमंद रहता है।

निष्कर्ष:

दोस्तों अब आपको शेयर मार्केट क्या है? और शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमायें इसके बारे में डिटेल में जानकारी मिल चुकी होगी। शेयर मार्केट में लम्बी अवधि का निवेश बहुत अच्छा रिटर्न देने की क्षमता रखता है।

शेयर मार्केट में निवेश ज्यादा जोखमी होता है इसलिए शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले शेयर मार्केट का ज्ञान और अनुभव बहुत ही जरुरी होता है। शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले अपने फाइनेंसियल एडवाइजर की सलाह जरुर ले| इस आर्टिकल का हेतु सिर्फ और सिर्फ शेयर मार्केट के बारे में जानकारी देना है।

Leave a Comment

Newsletter Signupनयी जानकारियों के लिए हमें सब्सक्राइब करें

नयी जानकारियों के लिए हमें सब्सक्राइब करें