laxmi kuber mantra

Laxmi Kuber Mantra धनवान बनाता है ये लक्ष्मी कुबेर मंत्र

इस लेख में आप जानेंगे की laxmi kuber mantra क्या है और इसके लाभ क्या हैं। लक्ष्मी कुबेर मंत्र धन की देवी माता लक्ष्मी और धन के देवता कुबेर को प्रसन्न करने का एक शक्तिशाली मंत्र है। संक्षेप में आप ये कह सकते हैं की ये मंत्र Kuber mantra कुबेर मंत्र और Laxmi mantra की शक्तिओं का एक मंत्र में समावेश है। इस मंत्र में mahalaxmi ka mantra तथा kubera mantra दोनों समाये हुए हैं।

Laxmi Kuber Mantra For Money

Kuber ashtalakshmi mantra  जिसे Laxmi kuber mantra भी कहा जाता है वो इस प्रकार है। हमने इस मंत्र का एक वीडियो हमारे यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया है जिसे अब तक 4 मिलियन से भी ज़्यादा लोग सुन चुके हैं। आप भी इस मंत्र को अवश्य सुनिए और इसका लाभ उठाएं। इस मंत्र का यूट्यूब वीडियो नीचे हमने दिया हुआ है आप इसे रोज़ सुबह शाम सुन सकते हैं।

कुबेर अष्ट लक्ष्मी मंत्र : ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं कुबेराय अष्ट-लक्ष्मी मम गृहे धनं पुरय पुरय नमः

कुबेर मंत्र : ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्यसमृद्धिं मे देहि दापय दापय स्वाहा॥

हमने Aniket Sinha की आवाज़ में गाया हुआ एक बहुत ही लोकप्रिय लक्ष्मी कुबेर मंत्र Laxmi Kuber mantra for moeny का वीडियो भी इस पोस्ट में दे रहे हैं ताकि आप इस मंत्र को नियमित रूप से सुनके इसका पूरा फायदा उठा सकें। इस धन लक्ष्मी मंत्र को सुनने और जाप करने से असीम आनंद और सुखों की प्राप्ति होती है।

ये भी पढ़ें: जानिए Sai kasht nivaran mantra के बारे में जिसको सुनने से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं।

Laxmi kubera mantra benefits

लक्ष्मी कुबेर मंत्र का जाप और श्रवण करने से धन प्राप्ति होती है इसीलिए इसे धन लक्ष्मी मंत्र, धन मंत्र, mantra for money और money mantra इत्यादि नामों से सम्बोधित किया जाता है। इस मंत्र का जाप हर दिन करने से ये उत्तम फल देता है। धनतेरस और दिवाली पूजन के दिन इस मंत्र का जाप विशेष लाभदायी माना जाता है और इस दिन Laxmi kuber mantra jaap अवश्य करना चाहिए।

Laxmi Kuber Mantra Jaap Vidhi लक्ष्मी कुबेर पूजा विधि

  • सबसे पहले स्नान करें और पवित्र हो जाएं.
  • फिर पूजा की चौकी पर लाल कपडे को बिछाके उसे गंगाजल से पवित्र कर लें.
  • पूजा की चौकी पर कुबेर जी और माँ लक्ष्मी की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें.
  • अब घी का दिया और धुप अगरबत्ती जलाएं.
  • अब माता लक्ष्मी और कुबेर जी को हाथ जोड़के ध्यान करें और उनसे पूजा को सफल बनाने के लिए प्रार्थना करें.
  • प्रतिमा को लाल कुमकुम का तिलक लगाके सुशोभित करें.
  • अब फूल माला और इत्र अर्पित करें.
  • अब साफ़ सुथरे आसान पर बैठके मनकों या कमलगट्टे की माला से लक्ष्मी कुबेर मंत्र का जाप करें.
  • हर माला के पूरा होने पर माँ लक्ष्मी और कुबेर जी से सुख सम्पति और काम धंधे में सफलता के लिए प्रार्थना करें.
  • आप आपके सामर्थ्य अनुसार एक पांच या ग्यारह माला का जाप कर सकते हैं.
  • समय के साथ जब ध्यान लगने लगे तो जाप की संख्या बढ़ा सकते हैं.
  • जाप पूरा होने के बाद माँ लक्ष्मी आरती और कुबेर आरती का पाठ अवश्य करें.
  • इसके बाद माँ लक्ष्मी तथा श्री कुबेर जी को खीर और फलों का भोग चढ़ाएं.
  • सबसे आखिर में माँ लक्ष्मी और कुबेर जी से पूजा के दौरान हुई किसी भी भूल चूक के लिए माफ़ी मांगें.

Kuber Story कुबेर जी कौन थे

कहा जाता है की कुबेर पूर्व जनम में चोर थे और एक रात वो चोरी करने के उद्देश्य से शिव मंदिर में घुस गए। मंदिर में घोर अँधेरा था इसीलिए प्रकाश करने का कोई उपाय सूझता न देख उन्होंने अपने वस्त्र में आग लगा दी ताकि वो देख सकें की वहाँ चुराने लायक क्या है। चुकी वहां तेज हवा चल रही थी इसलिए वो जब भी आग जलाते आग बुझ जाती थी। इस प्रकार पूरी रात चलता रहा, वहां एक शिवलिंग था जिसके पास कुबेर बार बार अपने वस्त्रों को जलाके रौशनी करने की कोशिश करते और तेज हवा से आग बुझ जाती थी।

लेकिन किस्मत का खेल देखिये भगवान शिव जो की बहुत शीघ्र अपने भक्तों पर प्रसन्न हो जाते हैं उन्हें ऐसा लगा की कोई भक्त उनके शिवलिंग पर दिया जला रहा है। भगवान शिव ने कुबेर को प्रसन्न होके उन्हें तीनों लोकों की दौलत का अध्यक्ष बना दिया और साथ ही उन्हें देवताओं की संपूर्ण दौलत का कोषाध्यक्ष भी बना दिया। तो ये थी कुबेर भगवान की कहानी।

कुबेर भगवान की आरती

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरेस्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे।शरण पड़े भगतों केभण्डार कुबेर भरे।॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥शिव भक्तों में भक्त कुबेर बड़ेस्वामी भक्त कुबेर बड़े।दैत्य दानव मानव सेकई-कई युद्ध लड़े॥॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥स्वर्ण सिंहासन बैठेसिर पर छत्र फिरेस्वामी सिर पर छत्र फिरे।योगिनी मंगल गावैंसब जय जय कार करैं॥॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥गदा त्रिशूल हाथ मेंशस्त्र बहुत धरेस्वामी शस्त्र बहुत धरे।दुख भय संकट मोचनधनुष टंकार करें॥॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥भांति भांति के व्यंजन बहुत बनेस्वामी व्यंजन बहुत बने।मोहन भोग लगावैंसाथ में उड़द चने॥॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥बल बुद्धि विद्या दाताहम तेरी शरण पड़ेस्वामी हम तेरी शरण पड़े।अपने भक्त जनों केसारे काम संवारे॥॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥मुकुट मणी की शोभामोतियन हार गलेस्वामी मोतियन हार गले। अगर कपूर की बातीघी की जोत जले॥॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे॥यक्ष कुबेर जी की आरतीजो कोई नर गावेस्वामी जो कोई नर गावे।कहत प्रेमपाल स्वामीमनवांछित फल पावे॥॥ इति श्री कुबेर आरती॥

कुबेर यंत्र

अगर आप Laxmi Kuber Mantra जाप के साथ में कुबेर यन्त्र को आपके घर या ऑफिस में स्थापित करें तो बहुत जल्दी धन वृद्धि होती है। नीचे दिए गए यन्त्र को आप प्रिंट आउट लेके फ्रेम में मढ़वा सकते हैं और उसे आपके पूजा स्थान या धन स्थान में स्थापित कर सकते हैं। Laxmi Kuber Mantra का जाप प्रतिदिन करने से ये बहुत जल्दी सिद्ध हो जाता है और आपके घर में धन दौलत की वृद्धि होनी प्रारम्भ हो जाती है।

Kuber Yantra

इस प्रकार विधिवत पूजा करने से माता लक्ष्मी और कुबेर जी प्रसन्न होते हैं और घर को धन धान्य से भर देतें हैं।

हमें उम्मीद है की आपको हमारा ये लेख अच्छा लगा होगा और आप इस लक्ष्मी कुबेर मंत्र का लाभ अवश्य उठाएंगे। अजनभा के लेख नियमित रूप से पढ़ने के लिए कृपया हमारे newsletter को सब्सक्राइब करें।

विशेष: क्या आपको पता है की छात्रों के लिए शक्तिशाली सरस्वती मंत्र कौन सा है?

1 thought on “Laxmi Kuber Mantra धनवान बनाता है ये लक्ष्मी कुबेर मंत्र”

  1. Pingback: Sai Kasht Nivaran Mantra in Hindi and English साईं कष्ट निवारण मंत्र - Ajanabha

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top