ECG Full Form In Hindi

आज का समय पूरी तरीके से आधुनिकता में बदल गया है। वर्तमान समय में हर एक क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। खासतौर पर मेडिकल के क्षेत्र में टेक्नोलॉजी बहुत ही मददगार साबित हो रहा है। मेडिकल के क्षेत्र में अलग अलग तरह के इलाज करने के लिए मशीनों का उपयोग किया जाता है, जिसमें से एक है ECG।

ECG एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक टेक्नोलॉजी है, जिसका इस्तेमाल ह्रदय जांच करने के लिए किया जाता है।वर्तमान समय में अधिकतर लोगों को ECG के बारे में तो पता ही होगा। परंतु आज के समय में भी ऐसे बहुत से लोग हैं, जिन्हें इसके बारे में पता नहीं होता हैं।

यदि आप भी उन्हीं लोगों में से एक हैं, तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े। क्योंकि आज हम आप सभी को अपने इस आर्टिकल के जरिए ECG Full Form In Hindi के बारे में बताएंगे और इससे जुड़ी हुई सभी महत्वपूर्ण बातों के बारे में भी बताएंगे।

तो आइए बिना समय गवाएं इस विषय के बारे में विस्तार से जानते हैं।

ECG Full Form In Hindi:-

ECG का फुल फॉर्म Electrocardiogram होता है, जिसको हिंदी में “विद्युतयंत्र द्वारा ह्रदय की धड़कनों का रेखाचित्रण” कहां जाता है। यह मेडिकल के क्षेत्र का एक बहुत ही अच्छा यंत्र है, जो कि लोगों के इलाज के लिए काफी ज्यादा मददगार साबित हो रहा है।

ECG क्या होता है:-

जैसा कि हमने आपको ऊपर ECG का फुल फॉर्म बताया हैं, तो आपको के इसके नाम से ही यह समझ में आ रहा होगा कि इस यंत्र का इस्तेमाल ह्रदय जांच के लिए किया जाता है। ECG एक तरह का मेडिकल टेस्ट होता है, जिसके अंतर्गत मशीनों के माध्यम से दिल का जांच किया जाता हैं।

इस टेस्ट के जरिए हृदय के इलेक्ट्रिक प्रैक्टिकल का जांच और पता लगाया जाता है, जैसे कि- दिल का दर्द, घबराहट, उच्च रक्तचाप, सांस की बीमारी, और बेहोशी इत्यादि जैसे दिल से जुड़ी हुई और भी बहुत सारे बीमारियों के बारे में पता लगाया जाता है।

ईसीजी एक डिजिटल तरीका है, जिसके माध्यम से दिल से जुड़ी हुई बीमारियों के बारे में बड़ी आसानी के साथ पता लगाया जा सकता है। और उनका समय रहते इलाज भी किया जा सकता है।

ECG के प्रकार:-

ECG मुख्य रूप से तीन प्रकार का होता है, जो कि निम्नलिखित है-

1.Resting ECG यह ऐसा ECG test जिसे तब किया जाता है, जब patient आरामदायक स्थिति में बेड पर लेट जाता है।

2.Ambulatory ECG :-यह ईसीजी खास तौर पर समय-समय पर दिल की निगरानी रखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

इस ईसीजी के अंतर्गत मरीज के कमर पर एक छोटी सी मशीन पहनाई जाती है। इस ईसीजी टेस्ट के दौरान मरीज अपने घर जा सकता है, और अपने जरूरत के अनुसार छोटे-मोटे काम को भी कर सकता हैं।

3.Stress or Exercise ECG :-इस ईसीजी टेस्ट का इस्तेमाल ट्रेडमिल या व्यायाम बाइक का इस्तेमाल करने के दौरान किया जा रहा होता हैं।

ECG Test से क्या क्या पता चलता है:-

ECG Test से हृदय से संबंधित एक बहुत ही अच्छा टेस्ट होता है। इसके माध्यम से दिल से जुड़ी हुई बहुत सारी बातों के बारे में पता चलता है, जोकि निम्नलिखित है-

1.ECG के माध्यम से मरीजो के दिल की विद्युतीय गतिविधि का पता चलता है।

2. ईसीजी टेस्ट के माध्यम से दिल की धड़कनों के बारे में भी पता चलता है।

3. दवाइयो के असर या फिर दवाइयों के साइड इफेक्ट को जानने के लिए भी ईसीजी टेस्ट का इस्तेमाल किया जाता है।

4.ECG टेस्ट के माध्यम से दिल की मांशपेशियों पर पढ़ने वाले किसी भी तरह के प्रभाव के बारे में भी पता लगाया जाता है।

5. यदि आपके दिल में दर्द हो रहा होगा तो इस स्थिति में भी ईसीजी टेस्ट किया जाता है। और इसके माध्यम से यह पता लगाया जाता है, कि दिल के दौरे का लक्षण है या नहीं।

6. ECG टेस्ट के द्वारा दिल के कोई भी valve के खराब होने की स्थिति का भी पता लगाया जाता है।

निष्कर्ष:-

आज के समय में टेक्नोलॉजी का विकास दिन प्रतिदिन काफी तेजी के साथ बढ़ता जा रहा है, और मेडिकल के क्षेत्र में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना लोगों के लिए भी काफी ज्यादा सुविधाजनक साबित हो रहा है।

इसलिए आज हमने आप सभी को अपने इस आर्टिकल के माध्यम से ECG Full Form In Hindi के बारे में बताया है। आशा करते हैं कि आपको हमारे इस आर्टिकल के जरिए ECG Full Form In Hindi के बारे में काफी अच्छी जानकारी प्राप्त हुई होगी।

Sharing Is Caring:

अनिकेत सिन्हा एक Internet Entrepreneur हैं। वो Ajanabha और Famenest Social Media Site के फाउंडर हैं।


Leave a Comment