KGF Full Form in hindi

KGF Full Form In Hindi केजीएफ का फुल फॉर्म क्या है

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका आज नबा में आज आप जानेंगे केजीएफ का फुल फॉर्म ( kgf full form in hindi ) क्या है।

KGF Full Form In English

इंग्लिश में केजीएफ का फुल फॉर्म है कोलार गोल्ड फील्ड Kolar Gold Field यह जगह कर्नाटक के कोलार जिले में आता है।

Kolar Gold Fields

सोना धरती पर पाए जाने वाले सबसे कीमती धातुओं में से एक है जिसकी तलाश राजा महाराजाओं के समय से मनुष्य करता रहा है। आज हम आपको एक ऐसे ही सोने की खदान के बारे में बताएंगे जो कर्नाटक के कोलार जिले में स्थित है। इस खदान का पता तब चला था जब भारत में अंग्रेजों का शासन हुआ करता था। यहां खुदाई का काम भी अंग्रेजों के शासनकाल में ही प्रारंभ हुआ था जो 2001 तक चला। उसके बाद यहां पर जो खुदाई का खर्चा था वह ज्यादा हो गया और उसके मुकाबले जो सोना प्राप्त होता था वह कम हो गया। इस वजह से इसे बंद कर दिया गया था। आज यह जगह पूरी तरह से गुमनामी के अंधेरे में है और जिन लोगों ने कोलार गोल्ड फील्ड को बड़ा बनाने में योगदान दिया वो आज गरीबी का जीवन जीने के लिए अभिशप्त है।

दोस्तों कर्नाटक के कोलार जिले में स्थित कोलार गोल्ड फील्ड से करीबन 802 ना करीबन 800 टन सोना सन उन्नीस सौ से लेकर 2001 के बीच में खुदाई द्वारा निकाला जा चुका है यहां पर 2001 के बाद खुदाई बंद कर दी गई थी पहले जब यहां अंग्रेजी शासन था तो अंग्रेजों ने भी यहां से काफी सारा सोना निकाला 18 सो 64 में अंग्रेजों को जब पता चला कि कोलार गोल्ड फील्ड में तो सोने का बहुत बड़ा भंडार है तो उन्होंने यहां पर सोने की खुदाई के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी।

कोलार गोल्ड फील्ड्स जो सोना प्राप्त होता था वह सॉलिड स्टेट में नहीं होता था यानी कि ठोस अवस्था में नहीं होता था। ये सोना चूरे के रूप में होता था और मिट्टी में मिश्रित होता था। इसकी वजह से इसके शुद्धिकरण में बहुत मेहनत लगती थी और इसे निकालने में भी काफी वक्त लगता था। इसके लिए काफी सारी मशीनरी का सहारा लेना पड़ता था। एक तरफ जहां पर खुदाई करने के लिए बड़ी-बड़ी मशीनें लगी थी और दूसरी तरफ इतनी बड़ी मशीनों को चलाने के लिए ढेर सारी बिजली की आवश्यकता होती थी और यह दो जो वजह थी इन दोनों की वजह से यहां पर काम ठीक से नहीं हो पाता था।

अंग्रेजों ने बिजली की कमी को दूर करने के लिए यहां शिवाना समुद्र के ऊपर से इलेक्ट्रिसिटी बनाने के लिए हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट बनवाया। उसके बाद भारत जापान के बाद दुनिया का दूसरा देश बन गया जो इलेक्ट्रिसिटी पैदा कर सकता था। आज उस समय के हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट को कावेरी इलेक्ट्रिक पावर प्लांट कहा जाता है।

Kolar Gold Fields Owner

कोलार गोल्ड फील्ड बेंगलुरु से करीबन 100 किलोमीटर की दूरी पर है यह भारत गोल्ड माइन्स लिमिटेड बीजीएमएल द्वारा अधिकृत है जो कि एक पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग है केजीएफ दुनिया का दूसरा सबसे गहरा गोल्डमाइन था जिसकी गहराई 3000 मीटर थी यह माहिम 121 सालों तक एक्टिव रही और उसके बाद इसे फरवरी 28 2001 को बंद कर दिया गया क्योंकि यहां खुदाई का खर्च ज्यादा था और उसके बदले में जो रेवेन्यू मिलता था वह काफी कम था

Kolar Gold Fields Movie

दोस्तों अपने केजीएफ मूवी तो देखी होगी जिसमें रॉकी नाम का एक लड़का ऐसे और पावर की तलाश में और उसकी मदद जो कि बीमार रहती हैं और जो कभी भी जिनकी मौत हो सकती है उन्हें बचाने के लिए मुंबई आता है और यहां आकर वह गोल्ड माफिया के चंगुल में फंस जाता है वैसे तो यह एक काल्पनिक मूवी थी जिसकी जिसे अनंतनाग ने लिखा था लेकिन यह मूवी काफी चर्चित थी और इसने बॉक्स ऑफिस पर काफी सफलता हासिल की थी

kolar gold fields history

एक समय की बात है कोलार गोल्ड फील्ड को मिनी इंग्लैंड कहा जाता था। कोलार गोल्ड फील्ड यानी कि केजीएफ भारत का पहला शहर था जहां पर पूरी तरह से बिजली की व्यवस्था थी और वह भी 1902 में। तब ब्रिटिश सरकार ने यहां पर एक तालाब भी बनवाया था जो इस शहर की जरूरतों को पूरी करने के काम आता था। जब यहां माइंस में खुदाई होती थी तो इस शहर में कभी बिजली की कोई कटिंग नहीं हुई किसी भी प्रकार की पानी की कोई कमी नहीं हुई लेकिन आज जब यहां से सोना निकालने का काम खत्म हो गया और आप कह सकते हैं कि जब यहां पर सोना खत्म हो गया तो ना तो आज यहां पावर सप्लाई है और ना ही पीने का पानी।

जो मजदूर इस माइंस में काम करते थे आज वह बहुत ही गरीबी की अवस्था में जी रहे हैं ना तो उनके पास पैसा है ना तो उनके लिए मेडिकल की सेवाएं हैं जिससे कि वह अपने स्वास्थ्य का ध्यान रख सके।

Interesting Facts about KGF

  • कोलार गोल्ड फील्ड में सोने की खदान है 3000 मीटर गहरी है जोकि से दुनिया की सबसे गहरी सोने की खदानों में से एक बनाती हैं
  • खूबसूरत मौसम और सभी सुख सुविधाओं से लैस होने की वजह से अंग्रेजों के शासनकाल में केजीएफ को मिनी इंग्लैंड कहा जाता था
  • कोलार एशिया का दूसरा शहर था जहां 1902 में बिजली उपलब्ध थी
  • कोलार गोल्ड फील्ड में सुरंगों की लंबाई १४ हज़ार किलोमीटर के आसपास थी
  • कोलार गोल्ड फील्ड में माइनिंग का काम 1880 में शुरू हुआ था
  • कोलार गोल्ड फील्ड में बहुत सारे मजदूरों को crystalline Silica dirt शरीर में सांस के माध्यम जाने के कारण Silicosis की समस्या हुई थी
  • कोलार गोल्ड फील्ड का विवरण रामायण में भी मिलता है जो कि हिंदुओं का एक पवित्र ग्रंथ है

कृपया ध्यान दें की Crystalline silica एक mineral है जो धरती की पपड़ी में पाया जाता है। इसका इस्तेमाल बालू , पत्थर , कंक्रीट, ग्लास, पॉटरी , सिरेमिक्स , ब्रिक्स , और आर्टिफीसियल स्टोन बनाने में होता है।

Conclusion

आज आपने जाना केजीएफ का फुल फॉर्म क्या है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी नई जानकारियों के लिए आप अंजना बार को सब्सक्राइब करें और अगर आपका कोई सवाल है तो हमें आप कमेंट में पूछे हमें आपके द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देकर बहुत ही खुशी होगी और हम पूरी कोशिश करेंगे कि आपकी हर संभव सहायता कर सकें आपने इस लेख को अंतत पढ़ा इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *