Indian Classical Music Lesson – Online Singing Lessons

नमस्कार ! स्वागत है आपका अजनाभ में। आज हम सीखेंगे हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत का पहला अध्याय ! सबसे पहले शाष्त्रीय संगीत की कुछ बुनियादी बातें समझ लेते हैं। हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में 7 स्वर होते हैं और रे ग ध और नी के शुद्ध और कोमल दोनों प्रकार होते हैं और म का शुद्ध और तीव्र होता है।

शुद्ध स्वर : सा रे ग म प ध नी

कोमल : रे ग ध नी

तीव्र : म

इस प्रकार कुल स्वर तो 7 ही हैं पर कुल नोट्स 12 हुए। आगे हम इस संरचना को हारमोनियम पर समझेंगे। इस समय बस इस स्वरों की संरचना को याद कर लें। पहले अध्याय में हमें सबसे पहले सा का अभ्यास करना है। आप जिस स्वर को सा मानते हैं उसी स्वर पर आपको निम्नलिखित अभ्यास करने हैं। ध्यान रहे की आपको ये सारे रियाज़ एक ही स्वर पर करने हैं। अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें।

https://www.youtube.com/watch?v=ApRvth_XW0c

अभ्यास 1 : सा आ ॐ

आपको सा आ और ॐ करीब 10 से 15 मिनट तक एक ही नोट पर अभ्यास करना है। इसके बाद आपको नीचे दिए गए अभ्यास को उसी नोट पर करना है।

अभ्यास 2 : आ ई उ ए ओ

आपको अभ्यास दो का रियाज़ भी उसी स्वर पर करना है जिस स्वर या नोट पर आपने अभ्यास एक किया था। इसके बाद हम तीसरे अभ्यास की तरफ बढ़ेंगे और सा के नीचे के स्वरों का रियाज़ नीचे दिए गए तरीके से करें। सा नी ध प म ग रे सा – सा रे ग म प ध नी सा

अभ्यास 3 :

सा

सा नी सा

सा नी ध नी सा

सा नी ध प ध नी सा

सा नी ध प म प ध नी सा

सा नी ध प म ग म प ध नी सा

सा नी ध प म ग रे ग म प ध नी सा

सा नी ध प म ग रे सा – सा रे ग म प ध नी सा

तो ये था आपके पहले दिन का रियाज़ इसके आगे का रियाज़ पार्ट दो में सीखेंगे । नियमित रूप से ज्ञानवर्धक जानकारियों के लिए अजनाभ को सब्सक्राइब ज़रूर करें। आपके सहयोग और प्यार के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

सम्बंधित लेख :

Learn Raag Bhairav राग भैरव सीखिए

Learn Raag Bhairvi राग भैरवी सीखिए

Learn Raag Yaman राग यमन सीखिए

Learn Raag Darbari राग दरबारी सीखिए

Sharing Is Caring:

अनिकेत सिन्हा एक Internet Entrepreneur हैं। वो Ajanabha और Famenest Social Media Site के फाउंडर हैं।

Leave a Comment